ज्यादा चावल ईया रोटी खाने से किया होता है? / रोटी ओर चावल कितना मात्रा में खाना है? / और कितनी मात्रा मे खाना सेहत के लिए जरूरी और लाभ दायक होती हैं? साइड इफेक्ट्स ऑफ ओवर ईटिंग। / ज्यादा खाने से आपको किया किया मोस्किलो का सामना करना पड़ेगा और किया होती हैं ज्यादा खाने की बजा? / किंतनी रोटी खाने चाहिए? / किंतनी चावल खाना सही होता हैं? / रोज किंतनी रोटी खाये?

ज्यादा चावल ईया रोटी खाने से किया होता है

ज्यादा खाना खाने से किया होता है
ज्यादा खाना खाने से किया होता है

नमस्कार दोस्तो में हो देबजित देब ओर आपलोगो को स्वागत करता हो मेरा यार्ड फिटनेस यार्ड  पर।

हम भारतीयोंको पता ही नही हैं कि रोटी हो या चावल कितना मात्रा में खाना है? और कितनी मात्रा मे खाना सेहत के लिए जरूरी और लाभ दायक होती हैं? और इस वाजे से हम बहोत ज्यादा स्वस्थ से जोरेे होयेे बिभिन्न प्रोब्लम से जूझते हैं। किउंकि हमेशा हम जरूरत से ज्यादा रोटी और चायल खाते हैं। हर बार ज्यादा खाना खानेकी वजा भूक नही होती हैं कभी कभी ज्यादा खाना आपकी मजबूरि भी बन जाते हैं किउंकि आपकी बॉडी ऑर्गन्स आपको खाना खाने के लिए मजबूर करता है ओर आपको ज्यादा भूक भी उसी के बजे से ही लगता है। में आज आप लोगों को बताऊंगा ज्यादा खाने से आपको किया किया मोस्किलो का सामना करना पड़ेगा और किया होती हैं ज्यादा खाने की बजा?किंतनी रोटी खाने चाहिए? किंतनी चावल खाना सही होता हैं?रोज किंतनी रोटी खाये?


दोस्तो पहला हम बात करते है रोटी और चबल कि पौष्टिक गुन के बारेमे रोटी मे होती है कार्बोहाइड्रेट ओर चबल मे भी होती है कार्बोहाइड्रेट हालाकि फिटनेस एक्सपर्टस का मन्ना है कि रोटी मे काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट होती है जो कि स्लो डाइजेस्ट होती है और ज्यादा टाइम तक एनर्जी देती है ,पर सच बात तू ए है कि स्लो हो ईया फ़ास्ट काम दोनो का सेम ही है ग्लूकोस बना ना ओर बॉडी को एनर्जी देना।

हम जितनी बार भी खाना खाते है उसमेंसे कुछ कार्बोहाइड्रेट फैट बनकर हमारे बॉडी की फैट सेल में जमा होती है और जिस समय हम खाना नही खाते है उस दोरान हमे एनर्जी देती है।

अगर हमारे फैट सेल में ज्यादा मात्रा में फैट जमा हो जाये तो ओ फैट खाने की इंटरवल की दौरान फैट सेल से नही निकलता है और तब आपकी बॉडी ओर्गन्स आकपो बोहोत ज्यादा भूक की फील करता है और आपको खाना खाने पे मजबूर करता है किउंकि बॉडी ओर्गन्स को जो एनर्जी की जरूरत होती है वो उस खाने से लेते है।

पर यहां पर ही प्रॉब्लम खत्म नही होती है खाया हूया खाने की कुछ हिस्सा ग्लूकोस बनके बॉडी ओर्गन्स को एनर्जी देती है और बाकी ग्लूकोस सरीर की ब्लड स्ट्रीम में रहजाति है और ब्लड स्ट्रीम में अतिरिक्त मात्रा में ग्लूकोस सरीर के लिए  टॉक्सिक होती है।

अतिरिक्त ग्लूकोस को रक्त प्रभा से कम करने के लिए इंसोलिन नाम की होरमोन लीवर की पेंक्रियस से निकलता है जो ब्लड स्ट्रीम की अतिरिक्त ग्लोकोस की कुछ हिस्सेको बॉडी ओर्गन्स से यूज़ कराता है और बाकी हिस्से का फैट बनाकर फैट सेल में डालता है, इस तारा से बॉडी धीरे धीरे फैट गेन करता है और आप मोटे होते है, ओर हार्ट डिजीज, इंसोलिन प्रोब्लेम , ब्लड शुगर जैसे तारा तारा की बीमारी से जोजते है।

अगर आप खोद को फिट ओर फाइन रखना चाहते हो तो सिर्फ टाइम तो टाइम ही खाना खाएं और बार बार भूक को इग्नोर करे।और अगर आपकी बॉडी में ज्यादा फैट जम गेया हो तू नियमित एक्सरसाइज करें ओर डॉक्टर से फैट कम करनेका साला ले और मेरे आनेवाले फैट लोस प्रोग्राम की सारी आर्टिकल को फॉलो करें। बोहोत जल्द ही आने वाला है।

उमीद करते है ए जानकारी आप लोगों के लिए फायदेमंद होगा आच्छा लगे तो शेयर जरूर करे।

                       _________________


मूझे FACEBOOK फॉलो करें

FACEBOOK
https://Facebook.com/myfitnessyard





No comments

Featured Post

Gym. / All about gym in हिंदी & বাংলা. / Gym fitness.

                    Gym जाने का सही उम्र:- नमस्कार दोस्तो में हो  देबजित देब  ओर आपलोगो को स्वागत करता हो मेरा यार्ड  फिटनेस यार्ड...

Powered by Blogger.