Gym में पहले फैट लस करें एया फिर वेट गेन? / Gym में पहले फैट लस किउ ज़रूरी हैं?

Gym में पहले फैट लस करे एया मसल गेन?

नमस्कार दोस्तो में हो देबजित देब ओर आपलोगो को स्वागत करता हो मेरा यार्ड फिटनेस यार्ड पर।

Gym.  / Fitness /. Debjit Deb


Gym हर कोई जाता हैं बॉडी बना ने के लिए एया फिर कुछ बोहोत मोठे लोग जाते हैं पतले होने के लिए। पर ए ज़रूरी नही हैं कि जो लोग बोहोत मोठे होंगे सिर्फ उन्हीं को gym जाके पतला होना चाहिए। जो लोग gym बॉडी में मसल बनाने के लिए जाते हैं उनको भी फैट लस करना पड़ता हैं, किउ की हर किसी के बॉडी में फैट तो होता ही हैं ओर लोग अक्सर इस फैट को नज़रअंदाज़ कर देते हैं और फल स्वरूप बॉडी में मसल भी नही बना पाता हैं। और बोहोत दिन gym में मेहनत करके भी कुछ फायदा नही होता हैं। अगर आप ठीक ठाक डाइट भी ले रहे हैं और gym में एक्सरसाइज भी ठीक तरहा से कर रहे हैं फिर भी बॉडी नही बना पा रहे हैं तो इसके पीछे एक कारण हो सकता हैं आपके बॉडी में अतिरिक्त मात्रा में मोजोद फैट।
अगर हमारे चमड़ी के नीचे फैट की मोती लेयर हो तो मसल बिल्डिंग करना लगभग ना मुमकिन हैं।
पर ऐसा बिल्कुल भी नही हैं फैट का हमारे शरीर में कोई भी काम नही हैं और हम फैट युक्त खाना खाना बिल्कुल बन्द करदेंगे । फैट हमारे शरीर में बोहोत ज़रूरी काम भी करता हैं , फैट हमारे हड्डियों की जॉइंट्स को स्मूथ रखता हैं, ओर हमारे शरीर में एनर्जी स्टोर करके रखता हैं, फैट हमारे शरीर के तापमान को भी नियंत्रण करता हैं और साथ ही साथ हमारे मसल बिल्डिंग के लिए ज़रूरी हॉर्मोन भी बनाने में फैट काम आता हैं।



किउ GYM जाके पहले फैट लस करना चाहिए?


              फैट ऐसे तो हमारे सरीर को चाहिए होता हैं पर अगर जितना चाहिए उस्से ज्यादा हो जाये तो फिर हमारे लिए परिसानी का सबब बन जाता हैं। ज्यादा फैट सिर्फ तरहा तरहा की बीमारियों को हे नही लाता हैं शरीर में उसके साथ साथ सरीर में मसल बन्ने में भी बाधा डालता हैं। इस लिए gym जाके जिन लोगों के बॉडी में फैट थोड़ा ज्यादा हैं सब से पहले फैट लस पे धियान देना चाहिए।

फैट हमारे शरीर में मसल ओर चमड़ी के बीच में होता हैं , ओर ए हमारे शरीर को अक्सर बाहरी चोट से भी बचाता हैं, पर जब बात मसल बिल्डिंग पे आता हैं तब फैट हमारे लिए कुछ ज्यादा फायदेमंद नही हैं। फैट शरीर की अंदर की तरफ से हमारे मसल से लगा होय होता हैं और बाहर की तरफ चमड़ी से लगा होता हैं, इस वाजे से शरीर के अंदर से अगर कोई प्रेसर आता हैं तो उसे फैट रोक लेता हैं और ठीक आसे ही बाहर का प्रेसर भी फैट रोक लेता हैं बाहर का तो कोई खास फर्क नही पड़ता हैं पर जब शरीर के अंदर से आनेवाले प्रेसर को रोकता हैं तो बोहोत दिक्कत होता हैं।


जब हम gym में एक्सरसाइज करते हैं तो सबसे पहले हमारे मसल टिश्यू को टूटना होता हैं और उसके बाद वो सारे टोटे होए टिश्यू नया सेल बना के रिपेर होता हैं और हमारे बॉडी में मसल वेट बराता हैं। मान लो अगर बॉडी में २ इंच भी फैट की लेयर हो तो gym में एक्सरसाइज के टाइम पे मसल में गर्मी पैदा करना और मसल सेल्स को तोड़ना लगभग नामूमकिन होता हैं हमे दर्द तो होता हैं पर वो हमारे मसल को पुरी तरहा से तोड़ नही पता हैं। ओर एकबार मानलो मसल टॉट गेया ओर gym का मेहनत काम आगेया फिर बॉडीबिल्डिंग का दूसरा पराब होता हैं उन टूटे होए मसल का रिपेरिंग होना , ओर रिपेरिंग के समय नया सेल बनता हैं और इसके लिए बॉडी धीरे धीरे चौरा होता हैं मगर फैट का दीवार बोहत मजबूत होने के वाजे से नया सेल बन्ने में बाधा आते हैं और इस वाजे से बोहोत मोस्किल होता हैं मसल बढ़ाना।

अब आप लोगों को समझ में आहि गेया होगा की मसल बिल्डिंग से पहले फैट लस करना बोहोत ही ज्यादा जरूरी होता हैं। तो gym जाके सबसे पहले अपनी बॉडी फैट प्रतिसद चेक करे उसके बाद अगर आपके बॉडी में फैट ज्यादा हो तो फैट कम करने के लिए ट्रेनिंग करे और डाइट भी फैट लस करने के लिए ले। हालाकि मसल बिल्डिंग ओर फैट लस की डाइट में कुछ खास अंतर नही हैं , फैट लस के टाइम पे कार्ब्स खाना कम करना चाहिए और प्रोटीन कार्ब्स के तोलना में थोड़ा ज्यादा खाना चाहिए।



____________________________________________


मुझे FACEBOOK पे फॉलो करें





No comments

Featured Post

Gym. / All about gym in हिंदी & বাংলা. / Gym fitness.

                    Gym जाने का सही उम्र:- नमस्कार दोस्तो में हो  देबजित देब  ओर आपलोगो को स्वागत करता हो मेरा यार्ड  फिटनेस यार्ड...

Powered by Blogger.